हजूरीबाग शूटआउट का सुपारी किल्लर गिरफ्तार एक और साथी की तलाश

जम्मू झारखंड के छह साल पहले बहुचर्चित हजूरीबाग हत्याकांड के मुख्य आरोपित को जम्मू पुलिस की मदद से झारखंड पुलिस ने जम्मू जिले के सीमांत क्षेत्र आरएसपुरा से गिरफ्तार किया। आरोपित सेना में पैरा कमांडो रह चुका है। उसके एक अन्य साथी की तलाश जारी है। पुलिस के अधिकारियों का कहना है कि इस मामले को काफी मेहनत के बाद सुलझाया गया है। जांच पूरी होने के बाद वह कुछ कह पाएंगे। जानकारी के अनुसार झारखंड में 2 जून 2015 में झारखंड के हजूरीबाग कोर्ट में गैंगस्टर रहे सुशील श्रीवास्तव की गोलीमार कर हत्या कर दी थी। आरोप है कि मुख्य आरोपित अवतार सिंह निवासी ऊधमपुर वारदात के बाद जम्मू में छिप गया था। झारखंड पुलिस की जांच में यह सामने आया कि पूर्व सैनिक अवतार सिंह ने गैंगस्टर की हत्या को अंजाम देने के लिए 40 लाख की सुपारी ली थी। अवतार को यह सुपारी श्रीवास्तव के विरोधी विकास तिवारी ने दी थी। अवतार सिंह सेना में रहते शार्ट शूटर था। उसने 2016 में सेना से स्वैछिक सेवानिवृत्ति ली थी। इसके बाद वह जम्मू में सैनिक कालोनी में एक किराये के घर में रहने लगा। कुछ समय पहले जम्मू के सांबा में एक दुकान में लूटपाट के मामले में अवतार को हिरासत में लिया गया था। पूछताछ में उससे लूटपाट के मामले में कोई सुराग तो नहीं मिलाए लेकिन अवतार ने बताया कि झारखंड में वह एक गैंगस्टर की हत्या में शामिल है। सांबा पुलिस ने इसकी जानकारी झारखंड पुलिस को दी। जम्मू पहुंची झारखंड पुलिस टीम ने मुख्य आरोपित अवतार को आरएसपुरा से एक ठिकाने से गिरफ्तार किया। उसके एक और साथी की पुलिस तलाश कर रही है। झारखंड पुलिस टीम को मुख्य आरोपित सौंप दिया है। इस हत्याकांड में झारखंड पुलिस के 19 पुलिस कर्मियों को सस्पेंड किया था। इस मामले में सैनिक को खुद नहीं पता था कि उससे जिसकी हत्या करवाई जा रही है कि वह कितना बड़ा गैंगस्टर है। इस हत्या में उसने बड़े दिगाम का इस्तेमाल किया था। हत्या करने के बाद वापस ड्यूटी ज्वाइन की गई थी। इस मामले में झारखंड पुलिस की तरफ से चालान को भी पेश कर दिया जा चुका है। उसके बाद अब इस आरोपी को गिरफ्तार किया गया है।

सम्बंधित खबर