यदि शिक्षक अनुशासित होगा तो बच्चे भी अनुशासित बनेंगे, बोले उपायुक्त

शिक्षा विभाग के अधिकारी स्कूलों के दौरा कार्यक्रम शैड्यूल जारी करें
भिवानी।स्टेट समाचार।अनिल यादव
यदि शिक्षिक अनुशासित होगा तो हमारे बच्चे भी अनुशासन का पालन करने वाले बनेंगे। अध्यापकों के हाथों में देश का भविष्य है। हम जैसी शिक्षा अपने बच्चों को देंगे और जैसे गुण उनके अंदर ढालेगे उसकी तरह का भविष्य हमारे देश का होगा। इसलिए सभी अध्यापकगण इस जिम्मेवारी को समझते हुए पुरी निष्ठïा व ईमानदारी से बच्चों की शिक्षा के स्तर को पहले से और बेहतर बनाने के लगातार प्रयास करते रहें।
यह बात उपायुक्त आरएस ढिल्लो ने वीरवार सांय को स्थानीय लघु सचिवालय स्थित डीआरडीए सभागार में शिक्षा विभाग की सक्षम हरियाणा की समीक्षा बैठक को संबोधित करते हुए कहीं। बैठक में नई शिक्षा नीति 2020 से संबंधी विषयों पर चर्चा की गई।इस अवसर पर उन्होंने स्टूडेंट असेस्मेंट टैस्ट, ई-अधीगम योजना, उड़ान योजना, सेट अग्जाम व सुपर 100 कार्यक्रम की समीक्षा की। इन कार्यक्रमों की समीक्षा करते हुए सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे स्कूलों में अपने दौरा कार्यक्रम का पूरा शैड्यूल बनाकर इसकी अनुपालना सुनिश्चित करें।
उन्होंने कहा कि स्कूल के हर बच्चे का शैक्षणिक मूल्यांकन प्रतिदिन किया जाए और अधिक से अधिक बच्चों को प्रश्रोतरी प्रतियोगिता में भाग दिलवाना सुनिश्चित किया जाए। इसके साथ-साथ सुपर-100 प्रोग्राम के तहत अधिक से अधिक बच्चों को मैडिकल व इंजिनियरिंग के प्रवेश परीक्षा की तैयारी करवाने के लिए प्रेरित करें। इसके साथ-साथ उड़ान योजना के तहत ड्रॉपआउट बच्चों को अधिक से अधिक शिक्षा की तरफ लेकर आए। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा राजकीय स्कूलों के 10वी व 12वीं कक्षा में पढऩे वाले बच्चों के लिए ईर् अधीगम योजना चलाई जा रही है। यह योजना पांच मई 2022 से चलाई गई है। उन्होंने इस योजना के क्रियान्वयन की भी विस्तार से समीक्षा की। इस अवसर पर जिला शिक्षा अधिकारी राम अवतार शर्मा, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी नरेश महता, डीपीएम संतोष नागर, सीएमजीजीए गौरव सिरोही सहित सभी खंडों से खंड शिक्षा अधिकारी व सहायक परियोजना समन्वयक उपस्थित थे।

सम्बंधित खबर